Author Topic: EVENING ON 13TH MAY  (Read 14400 times)

PD1915

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 651
  • MOMENT TO CREATE WONDERS
EVENING ON 13TH MAY
« on: May 13, 2014, 05:42:45 PM »


PD1915

PD1915

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 651
  • MOMENT TO CREATE WONDERS
Re: EVENING ON 13TH MAY
« Reply #1 on: May 13, 2014, 05:43:43 PM »
AAP rising in India, will win 65-70 seats – CNN News
By admin on May 12, 2014

 
Even as the Aam Aadmi Party (AAP) is contesting 434 seats nationwide, its eyes are set on “70-80 important seats where the electoral fight is quiet close”, say local reported of CNN News.



The party is mum on what its final Lok Sabha debut tally would be, but has expressed confidence of breaching the double figure mark. Top AAP leaders told CNN that, “in tune with their objective of becoming an honest, national alternative”, their “first and foremost objective is to occupy the mind space and heart space of people across India”.

Of the 70-80 constituencies, 11 are from Delhi-NCR area alone, at least five-eight seats are from Punjab and Maharashtra each followed by seats in Karnataka, Rajasthan, Tamil Nadu, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Kerala, Odisha and Uttarakhand. The party is confident of achieving the ‘national’ party status post the election.

“The final tally will only be clear on May 16, but it may touch the double figure mark. We are keeping our fingers crossed,” said a senior AAP leader, who did not wish to be indetified.

AAP insiders say the party is expecting to win at least four seats in the national capital where Arvind Kejriwal ran a government for 49 days with outside support from the Congress. Although Kejriwal’s hasty resignation, as admitted by many of AAP leaders, did dent the party’s chances, his taking on a fight against BJP’s prime ministerial candidate Narendra Modi has helped them across India.

AAP has been on a roller coaster ride in the last few months, from selecting candidates, mobilising funds and volunteers, organising campaigns with minimum funds, etc. The result of all these efforts will reflect in the total votes that we get across India, said a senior AAP leader.

AAP has fielded 434 candidates in the 2014 Lok Sabha election; this is seven more than the 427 candidates put up by the BJP, which is being predicted by many opinion polls as a frontrunner to form the next government. Congress has fielded 457 candidates.

To increase their national footprint, AAP had stitched unions with activists and their movements across India. AAP had hoped that people attached with those movements or agitation of activists would naturally join them.

Reasons of AAP wave in India: “People are fed up with corruption”

1. The role of young voters and social media. First-time voters are expected to make up roughly 10% of those who will go to the polls this election. India’s population is very young: More than 65%, or nearly 800 million people, are younger than 35, according to the latest census. This youth bulge is lending weight to candidates who prioritize economic development, as well as increasing the importance of social media in campaigns. AAP’s main strength is young generation.

Young voters grew up after reforms to liberalize the Indian economy began in 1991, and thus have high expectations for leaders to reignite India’s growth. In large part because of the youth contingent, spending on social media advertising during the election may reach $83 million.

2. The rise of the Aam Aadmi Party. An offshoot of the anti-corruption protests in 2011-2012, the AAP galvanized support with its surprise showing in last year’s local elections for the Delhi Assembly.. The AAP won 28 of the legislature’s 70 seats and its leader, activist-turned-politician Arvind Kejriwal, was appointed as Delhi’s chief minister. But while the AAP has energized young voters and the middle class, it hasn’t yet shown it can transition from a protest movement to a governing force.

After failing to deliver on key election promises, Kejriwal quit his post in Delhi after only 49 days in office. The AAP is expected to take votes from more established parties in the election and could be instrumental in forming a governing coalition.

3. Women are raising their voices. Long expected to vote in line with the male members of their families, Indian women are becoming an electoral force in their own right.

Women account for 48.5% of the electorate, but in some recent polls, they have voted in higher numbers than men. Inflation and safety are likely to be among their most pressing concerns as women control most household budgets and violence against women is an emergent political issue. The gang rape and subsequent death of a 23-year-old woman in Delhi in December 2012 and numerous other cases have sparked widespread protests and precipitated a reckoning of the position and treatment of Indian women.

4. The key role of regional parties. No party has won an outright majority in India since 1989. This year’s results are likely to be the same, meaning India’s regional parties will likely be instrumental in helping the BJP or Congress form a government. Regional parties control five of India’s biggest states — Uttar Pradesh, Bihar, West Bengal, Tamil Nadu and Odisha, which together account for more than 200 Lok Sabha seats — and their wide variety of agendas and proclivities make determining India’s future policy direction difficult.

Whether elected officials can deliver the decisive governance that India needs will depend in large part on the character and strength of the governing coalition.
PD1915

PD1915

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 651
  • MOMENT TO CREATE WONDERS
Re: EVENING ON 13TH MAY
« Reply #2 on: May 13, 2014, 05:45:04 PM »
'द लंचबॉक्स' अमेरिकी बॉक्स ऑफिस पर इस साल सबसे अधिक कमाई करने वाली विदेशी फिल्म

नई दिल्ली: रितेश बत्रा की फिल्म 'द लंचबॉक्स' ने अमेरिका में 27 लाख डॉलर से अधिक की कमाई की है. यही नहीं इसे अमेरिकी बॉक्स ऑफिस पर इस साल सबसे अधिक कमाई करने वाली विदेशी फिल्म कहा गया है.
 
बॉक्स ऑफिस रिपोर्टिग सर्विस 'बॉक्स ऑफिस मोजो' के मुताबिक, "वर्ष 2014 में अमेरिका में बॉक्स ऑफिस पर सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनने के अलावा 'द लंचबॉक्स' ने 27 लाख डॉलर बटोर लिए हैं (और अभी भी जारी है)."
 
फिल्म के सह-निर्माता गुनीत मोंगा, अनुराग कश्यप और अरुण रंगाचारी हैं. फिल्म ने कथित रूप से 'इंग्लिश विंग्लिश' (18 लाख डॉलर), 'अग्निपथ' (19 लाख डॉलर) और 'क्रिश 3'( 22 लाख डॉलर) सरीखी बॉलीवुड फिल्मों में ज्यादा कमाई की है. 'द लंचबॉक्स' में निमरत कौर और इरफान खान प्रमुख भूमिका में हैं.
PD1915

PD1915

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 651
  • MOMENT TO CREATE WONDERS
Re: EVENING ON 13TH MAY
« Reply #3 on: May 13, 2014, 05:47:12 PM »
BREAKING NEWS: राष्ट्रपति से मिलीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी
PD1915

PD1915

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 651
  • MOMENT TO CREATE WONDERS
Re: EVENING ON 13TH MAY
« Reply #4 on: May 13, 2014, 05:49:33 PM »
शून्य से शिखर तक पहुंचने के बाद मोदी अब बना रहे हैं ये खास प्लान!

नई दिल्ली. सियासत के शिखर की आखिरी लड़ाई समाप्त हो चुकी है. अब एग्जिट पोल पर भरोसा करें तो बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का राजतिलक बस बाकी है. देश का हर एग्जिट पोल मोदी को सत्ताधीश कर रहा है.
 
शून्य से शिखर तक पहुंच रहे मोदी का अब आगे का प्लान क्या होगा? देश को मोदी से भारी उम्मीद है. अब सरकार और संगठन दोनों को मजबूती देने के भारी दबाव को कैसे मोदी मैनेज करेंगे ? केंद्र सरकार को अक्सर कोसने वाली राज्य सरकारों के लिए मोदी का क्या प्लान होगा ? जनसमुदाय तत्काल प्रभाव के लिए आतुर हैं. उसके पास वक्त नहीं है. युवा बेचैन हैं. आशा की किरण के तेज प्रकाश की उम्मीद में अपने भविष्य को उज्ज्वल देखने के लिए लालायित हैं. उन्हें अब सबुकछ चाहिए..वह भी बेहद जल्दी.
 
केंद्र सरकार अक्सर विपक्ष की राजनितिक दलों की राज्य सरकारों पर टेढ़ी नजर रखती है. अक्सर यह आरोप बीजेपी भी लगाती रही है. क्या मोदी अपने नेतृत्व में बनी केंद्र सरकार की योजनाओं का क्रियान्वयन विरोधी राजनितिक दलों की राज्य सरकारों से करा पाएंगे? इस तरह के ढेर सारे सवाल सियासत के गलियारों में चर्चा में है.
 
राजनीतिक गलियारों में जो चर्चा है उसके मुताबिक मोदी भी इस दबाव को महसूस कर रहे हैं. इसलिए वह केंद्र सरकार के साथ ही वह राज्य में भी बीजेपी की सरकार बनाने की मुहिम में जुटे हुए हैं. दिल्ली की सियासत का सफर तय करने में वह यूपी और बिहार के महत्व को बखूबी समझ रहे हैं. लोकसभा की लड़ाई तो भावी भविष्य के सपने दिखाकर मोदी जीतने जा रहे हैं. लेकिन इस जीत को बरकरार रखने के लिए उन्हें राज्य में भी उनकी पार्टी को सत्ता पर आसीन होना होगा. इसीलिए मोदी अब यूपी और बिहार में अपनी लोकप्रियता बरकरार रखने के लिए नई रणनीति बनाने में जुट गये हैं.
 
शुरुआत बिहार से ही होने जा रही है. नीतीश को लोकसभा में काफी कमजोर करने के बाद अब विधानसभा में मात देने की तैयारी में मोदी जुट गये हैं. सूत्रों के मुताबिक सैयद शाहनवाज हुसैन को बीजेपी की तरफ से सीएम उम्मीदवार घोषित किया जा सकता है. कुछ दिनों पहले बिहार बीजेपी के पूर्व प्रमुख सीपी ठाकुर ने ऐसे संकेत भी दिये थे. बिहार बीजेपी में काफी गुटबाजी रही है. सुशील मोदी और इनके विरोधी गुट तो कई बार खबरें तक बनती रही हैं. शाहनवाज हुसैन को सीएम प्रोजेक्ट करने से गुटबाजी पर लगाम लगने की उम्मीद है. शाहनवाज बिहार के कार्यकर्ताओं में भी काफी लोकप्रिय हैं.
 
मुस्लिम मतों के लिए ही नीतीश कुमार बीजेपी से अलग हुए हैं. अब जब शाहनवाज हुसैन को सीएम उम्मीदवार घोषित किया जाएगा तो फिर यह नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव दोनों की सियासत पर गहरा चोट होगा. इसके साथ ही मोदी मुसलमानों को एक पॉजीटिव संदेश भी दे देंगे और विरोधियों का मुंह भी बंद हो जाएगा.
 
जैसा कि संभावनाएं बिहार बीजेपी की तरफ से भी जताई गई थीं कि जेडीयू टूट सकती है. कुछ ही दिनों पहले बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा था कि जेडीयू के 50 से अधिक विधायक उनके संपर्क में हैं और ये सभी बीजेपी को जीत दिलाने में जुटे हुए हैं. नीतीश कुमार भी अपनी सभाओं में अक्सर कह रहे थे कि यदि दिल्ली में उनके सांसद अधिक नहीं पहुंचे तो सरकार गिर जाएगी. अब ऐसे हालात में बीजेपी की सरकार बनाने की संभावनाएं प्रबल हो जाएंगी. फिलहाल तो ये भविष्य के गर्भ में छूपा है लेकिन ऐसे संभावनाओं की प्रबल उम्मीद है. उत्तराखंड में भी बीजेपी अपनी सरकार बनाने की कोशिश कर सकती है. उत्तराखंड में कांग्रेस की 33, बीजेपी की 30 के अलावा चार निर्दलीय और तीन बीएसपी के सदस्य हैं. उत्तराखंड कांग्रेस के मजबूत स्तंभी सतपाल महाराज पहले ही बीजेपी के पाले में आ चुके हैं.
PD1915



 


* Links to follow